welcome

बुधवार, 10 अक्तूबर 2012

ज़िंदगी जियो अपने अंदाज़ में...

हमने उदासी को अपनी आदत कहना नहीं सीखा।

गुमसुम किसी भी हाल में रहना नहीं सीखा।।


बदले हैं हमने हरदम दरियाओं के रुख़,

दरिया के साथ हमने बहना नहीं सीखा।।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Follow Us