welcome

शनिवार, 15 सितंबर 2012

तू इस तरह से मेरी जिंदगी में शामिल है

तू इस तरह से मेरी जिंदगी में शामिल है , जहाँ भी जाऊ ये लगता हैं तेरी महफ़िल है ये आसमान ये बादल ये रास्ते ये हवा हर एक चीज हैं अपनी जगह ठिकाने से कई दिनों से शिकायत नहीं जमाने से ये जिंदगी हैं सफर तू , सफर की मंजिल है!!!

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Follow Us